Call Forwarding kya hai? कैसे करें कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा का इस्तेमाल!

Rate this post

किसी भी एक सिम कार्ड से दूसरे सिम कार्ड पर कॉल फॉरवर्ड करने की प्रक्रिया को कॉल फॉरवर्डिंग कहते हैं। कॉल फॉरवर्डिंग करने की 4 कंडीशन होते हैं। आज के आर्टिकल में Call Forwarding kya hai इसके बारे में विस्तार से बात करेंगे और कॉल फॉरवर्डिंग के क्या फायदे और नुकसान है इसके बारे में भी बात करेंगे।

कॉल फॉरवर्डिंग कि अपने फायदे और नुकसान है आजकल बहुत से फ्रॉड कॉल फॉरवर्डिंग के माध्यम से किए जाते हैं इस फ्रॉड से कैसे बचना है इस आर्टिकल में इसकी जानकारी आपको प्राप्त होगी। लेकिन उससे पहले बात करते हैं कॉल फॉरवर्डिंग कैसे इनेबल किया जाता है कौन सी कंडीशन में की जाती है।

कॉल फॉरवर्डिंग कैसे चालू किया जाता है – How To Enable Call Forwarding

कॉल फॉरवर्डिंग को चालू करना बहुत ही आसान है। एक कंपनी के कॉल को दूसरे कंपनी के सिम कार्ड पर ट्रांसफर किया जा सकता है बिना किसी शुल्क के केवल अपने मोबाइल फोन में कुछ सेटिंग को इनेबल करके कॉल फॉरवर्डिंग ऑन कर सकते हैं अथवा USSD कोड द्वारा भी कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा चालू की जा सकती है।

सबसे पहले बात करते हैं मोबाइल फोन की सेटिंग द्वारा कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा कैसे चालू की जाती है।

सेटिंग द्वारा कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा कैसे इनेबल करें?

  • सबसे पहले अपने मोबाइल फोन की सेटिंग में जाएं।
  • सर्च बॉक्स में टाइप करें Call Forwarding.
  • इसके बाद Call Forwarding के ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • अगले पेज पर आपको चार कंडीशन दिखाई देंगे।
  • किसी एक कंडीशन को सेलेक्ट करें।
  • जिस नंबर पर कॉल फॉरवर्ड करना चाहते हैं वह मोबाइल नंबर दर्ज करें।
  • मोबाइल नंबर दर्ज करने के बाद सेटिंग को सेव कर ले।
  • बधाई हो आपके नंबर पर कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा शुरू हो चुकी है।

आपके द्वारा चुने गए कंडीशन के अनुसार जैसे ही कोई व्यक्ति आपके पहले सिम पर कॉल करेगा वह कॉल ट्रांसफर होकर आपके दूसरे सिम कार्ड पर आ जाएगी।

USSD कोड द्वारा कॉल फॉरवर्डिंग कैसे इनेबल करें।

यूएसएसडी कोड द्वारा कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधाएं इनेबल करना सबसे आसान प्रक्रिया है। केवल आपको अपने मोबाइल फोन के डायलॉग में जाकर कुछ नंबर डायल करना है और इसके बाद आपके मोबाइल फोन पर कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा शुरू हो जाएगी।

Jio यूजर ऐसे करें कॉल फॉरवार्डिंग-

  • अपने मोबाइल फोन का डायलॉग ओपन करें।
  • टाइप करें *401*<10 digit number>
  • इसके बाद ग्रीन बटन पर क्लिक करके वह सिम कार्ड सेलेक्ट करें जिससे कॉल फॉरवर्ड की सुविधा शुरू करना है।
  • डायल होने के बाद आपके उस नंबर पर कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा शुरू हो जाएगी।

VI यूजर ऐसे करें कॉल फॉरवार्डिंग-

*67<10 digit number> # डायल करके कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा इनेबल कर सकते हैं।

Airtel यूजर ऐसे करें कॉल फॉरवार्डिंग-

एयरटेल यूजर्स को चयन प्रक्रिया 2 स्टेप में करनी होगी सबसे पहले कॉल फॉरवर्डिंग इनेबल करना पड़ेगा और उसके बाद नंबर को डायवर्ट करना पड़ेगा। तभी जाकर कॉल फॉरवर्डिंग की प्रक्रिया पूर्ण हो पाएगी।

  • *002<10 digit own mobile number ># डायल करके कॉल फॉरवर्डिंग इनेबल करें।
  • इसके बाद डायल करें **21* <१० डिजिट मोबाइल नंबर जिसपर कॉल डाइवर्ट करना है ># और ग्रीन बटन पर क्लिक करें।

नोट: <10 digit number> का मतलब है वह मोबाइल नंबर जिस पर कॉल ट्रांसफर करना है।

इस प्रकार आप कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा किसी भी सिम कार्ड में चालू कर सकते हैं। कॉल फॉरवर्डिंग के द्वारा किसी भी एक कंपनी के सिम कार्ड की कॉल को दूसरे कंपनी के सिम कार्ड पर भी ट्रांसफर किया जा सकता है किसी भी तरह का चार्ज आपको कंपनी को नहीं देना है।

कॉल फॉरवर्डिंग की कंडीशन क्या है- Conditions Of Call Forwarding

कॉल फॉरवर्डिंग 4 कंडीशन में चालू की जाती है-

  1. Always On: यदि इस कंडीशन में कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा इनेबल की जाती है तो उस नंबर पर आने वाली हर एक कॉल दूसरे नंबर पर ट्रांसफर हो जाएगी।
  2. When Busy: इस कंडीशन में यदि आप बिजी हैं तो ही आपके मोबाइल पर प्राप्त होने वाली कॉल दूसरे मोबाइल नंबर पर ट्रांसफर होगी।
  3. When Unreachable: यदि आपका फोन मोबाइल नेटवर्क क्षेत्र से बाहर आ रहा हो तो इस कंडीशन में कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा इस्तेमाल की जा सकती है।
  4. When Unanswered: यदि ऐसा हो कि आपके मोबाइल पर प्राप्त होने वाला ना हो पाए तो ऐसे में कॉल फॉरवर्डिंग एक्टिव हो जाती है।

कॉल फॉरवर्डिंग के फायदे- Advantage Of Call Forwarding

  • कॉल फॉरवर्डिंग ऑन करने के बाद कोई भी कॉल बिजी होने के बावजूद दूसरे मोबाइल पर रिसीव कर सकते हैं।
  • यदि आपका फ़ोन नेटवर्क क्षेत्र से बाहर है इस स्थिति में भी आपका कॉल रिसीव हो जाएगा।
  • कई बार ऐसा होता है कि आपका कॉल रिसीव नहीं हो पाता और कैंसिल हो जाता है ऐसी स्थिति में आप अपने नंबर को दूसरे सिम कार्ड पर फॉरवर्ड कर सकते हैं जिससे कॉल आने पर आप कॉल को रिसीव कर पाएंगे।
  • आप अपने पहले नंबर से प्राप्त होने वाले ओटीपी को दूसरे नंबर के द्वारा प्राप्त कर सकते हैं।
  • यदि आपका फोन स्विच ऑफ है तो आपका कॉल दूसरे नंबर पर ट्रांसफर हो जाएगा।

कॉल फॉरवर्डिंग के नुकसान -Disadvantage Of Call Forwarding

कॉल फॉरवर्डिंग के फायदे तो हमने बहुत सारे देख लिए लेकिन अब नुकसान क्या है इसके बारे में जानना भी आवश्यक है क्योंकि किसी भी फीचर का यदि फायदा होता है तो उसके कुछ नुकसान भी होते हैं आइए जानते हैं-

  • यदि आपने मोबाइल में कॉल फॉरवर्डिंग ऑन किया है और नेटवर्क नहीं है तो फॉरवर्डिंग एक्टिव होने के बाद कॉल फॉरवर्डिंग डीएक्टीवेट करने में सबसे आती है।
  • कॉल फॉरवर्डिंग से आपके मोबाइल पर प्राप्त होने वाला को ओटीपी दूसरे मोबाइल नंबर पर प्राप्त किया जा सकता है और आपके साथ फ्रॉड किया जा सकता है।

कॉल फॉरवर्डिंग फ्रॉड क्या है और कैसे बचाव करें?- How To Save Yourself From Call Forwarding Scam

कॉल फॉरवर्डिंग का फ्रॉड आजकल काफी ज्यादा बढ़ रहा है पहले ऐसा नहीं था लेकिन जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी बढ़ रही है वैसे-वैसे इस फ्रॉड को भी बढ़ावा मिल रहा है। कॉल फॉरवर्डिंग के माध्यम से आपके बैंक अकाउंट से पैसे चुटकियों में गायब किए जा सकते हैं।

हम सभी जानते हैं जब एक कॉल फॉरवर्ड की जाती है तो एक नंबर से दूसरे नंबर पर कॉल जाती है ऐसे में जो भी व्यक्ति फ्रॉड करना चाहता है वह आपके नंबर पर प्राप्त होने वाले कॉल को बड़ी चालाकी से अपने नंबर पर फॉरवर्ड कर लेता है। और जैसा कि हम जानते हैं, आजकल ओटीपी कॉल के माध्यम से भी प्राप्त होते हैं तो आपके बैंक अकाउंट पर प्राप्त होने वाला ओटीपी वह अपने मोबाइल नंबर पर रिसीव करता है और बैंक से पैसे विड्रोल कर सकता है।

Call Forwarding Kaise Hataye – किसी भी सिम से कैसे कॉल फारवर्डिंग बंद करें।

बचाव: आजकल कभी भी किसी को अपना मोबाइल देते समय इस बात का ध्यान रखें कि व्यक्ति आपके मोबाइल फोन से कोई ऐसी एक्टिविटी ना करें ताकि आपकी प्राइवेसी को खतरा हो इसलिए जब भी आप किसी भी व्यक्ति को अपना मोबाइल दे तो इस बात का ध्यान रखें कि व्यक्ति आपके मोबाइल में क्या इस्तेमाल कर रहा है।

कॉल फॉरवर्डिंग एक्टिव है कैसे पता करें?

यदि आपको ऐसा लगता है कि आपके मोबाइल पर कॉल फॉरवर्डिंग अनजाने में एक्टिव की गई है और इस बात की जानकारी आपको नहीं है तो पता करने के लिए आप अपने मोबाइल फोन की सेटिंग में जाकर कॉल फॉरवर्डिंग की सेटिंग को चेक कर सकते हैं। अथवा अपने मोबाइल फोन में डायरेक्ट *21# डायल करके कॉल फॉरवर्डिंग के बारे में पता कर सकते हैं।

निष्कर्ष /Verdict

इस आर्टिकल में कॉल फॉरवर्डिंग क्या है कैसे इस्तेमाल किया जाता है और कैसे इसके बुरे इस्तेमाल से बचना है इसके बारे में जानकारी दी गई आशा करता हूं आपको जानकारी पसंद आई होगी। ऐसी और जानकारी के लिए आप हम से जुड़े रहे आप हमें सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते हैं हमारी टेलीग्राम कर सकते हैं और इस प्रकार की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं धन्यवाद।

Sharing Is Caring:

Hi There! this is Er. Durgesh a professional blogger, having 5 years of experience in blogging. I love to gather information and write about them. The aim of this blog is to keep you posted with every important update. So, keep visiting and keep learning.

Leave a Comment

close button