How To Setup House Wiring – A Step By Step Guide | घर की वायरिंग कैसे करें

Rate this post

घर की वायरिंग कैसे करें? अपने घर की वायरिंग करना पहली बार में थोड़ा मुश्किल काम हो सकता है, लेकिन अगर आप सही चरणों का पालन करते हैं तो यह वास्तव में बहुत ही आसान प्रक्रिया है। सही जानकारी और टूल्स के साथ, आप अपने घर की वायरिंग बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं।

इस आर्टिकल में हमने स्टेप बाय स्टेप बताया है की How To Setup House Wiring. तो पूरा आर्टिकल ध्यान से पढ़िए मै उम्मीद करता हूँ आपको वायरिंग करना आ जायेगा फिर भी अगर किसी प्रकार की प्रॉब्लम होती है तो आप कमेंट में पूछ सकते हैं।

Step 1: Know What You Need

सबसे पहले आपको यह जानना होगा कि आपको किस प्रकार की विद्युत सेवा मिल रही है। जैसे की कितनी पावर सप्लाई मिल रही है इस वोल्टेज से आप क्या-क्या काम कर सकते हैं। इससे आपको सही वायर, स्विच, और भी जरुरी सामान को चुनने में हेल्प मिलेगी।

अगर आप अपने क्षेत्र के पावर स्टेशन पर जाते हैं तो प्रश्न पूछने में संकोच न करें, क्या मेरे पास बिजली के लॉन घास काटने की शक्ति हो सकती है? या क्या आप मेरी संपत्ति पर एक से अधिक निवास के लिए शक्ति प्रदान करेंगे?

आपकी उपयोगिता कंपनी के प्रतिनिधि आपको यह निर्धारित करने में मदद कर सकते हैं कि आपकी आवश्यकताओं के लिए किस प्रकार की विद्युत सेवा सबसे उपयुक्त है।

Step 2: Tools Needed For Wiring

अपने घर में उचित विद्युत तारों को स्थापित करने के लिए, आपको कुछ बुनियादी उपकरणों और उपकरणों की आवश्यकता होती है।

  • Three-Wire Cable
  • Wire Strips
  • Voltmeter
  • Circuit Breaker Tester
  • Electrical Tape
  • Wire Cutter
How To Setup House Wiring- Wiring Tools

बिजली के साथ सुरक्षित रूप से काम करने के लिए इन उपकरणों और उपकरणों के अलावा, आपको सुरक्षा उपायों की भी आवश्यकता है।

Step 3: Finding A Power Source

आपको अपने घर के लिए बिजली चाहिए, लेकिन आप इसे कहां से प्राप्त करेंगे? आप एक मुख्य आपूर्ति चाहते हैं जिसे किसी भी समय चालू और बंद किया जा सकता है ताकि आप बस चीजों को प्लग इन कर सकें और जरूरत पड़ने पर उन्हें चालू कर सकें।

अधिकांश घरों में, मुख्य बिजली एक उपभोक्ता इकाई में आती है जहां इसे अलग किया जाता है और सर्किट के माध्यम से अलग-अलग उपकरणों या आउटलेट में वितरित किया जाता है।

कुछ घरों में (आमतौर पर पुराने वाले) पूरे घर में केवल एक ही लाइव आपूर्ति होती है – जो मैंने किया वह मत करो और इसे अलग-अलग सर्किट से बदल दें! सबसे आसान तरीका है कि आप किसी इलेक्ट्रीशियन से अपने विकल्पों के बारे में पूछें यदि आप सुनिश्चित नहीं हैं कि पहले से क्या है।

Step 4: Making Sense Of Electrical Symbols

आपके सर्किट के प्रत्येक घटक का अपना विशिष्ट विद्युत प्रतीक होता है। विद्युत प्रतीकों को पहली बार में समझना थोड़ा कठिन लग सकता है, लेकिन एक बार जब आप उनका उपयोग कर लेते हैं तो उन्हें समझना बहुत आसान होता है। महत्वपूर्ण बात यह है कि प्रत्येक प्रतीक एक घटक का प्रतिनिधित्व करता है।

विद्युत् सिम्बल्स प्रतीकों बहुत ही आवश्यक क्युकी अगर आप इन सिम्बल्स को समझे बिना वायरिंग कर देते हैं तो आपके घर में लगे उपकरणों के ख़राब होने की संभावना बढ़ जाती है तो आप इन सिम्बल्स को अच्छे से जान लें निचे कुछ महत्वपूर्ण सिम्बल्स दिए गए हैं।

Step 5: Setting Switches And Outlets

आपका पहला प्रकाश जुड़नार स्थापित होने के बाद, यह आपके आउटलेट और स्विच को सेट करने का समय है। सबसे पहले, सुनिश्चित करें कि आप इन तीन चीजों में से किसी को भी एक साथ नहीं जोड़ते हैं – आपको कभी भी किसी आउटलेट को दूसरे आउटलेट में प्लग नहीं करना चाहिए।

आउटलेट कई अलग-अलग प्रकारों में आते हैं, लेकिन आम तौर पर दो प्रणालियों में से एक का पालन करते हैं: समानांतर या श्रृंखला। समानांतर आउटलेट जुड़े हुए हैं ताकि वे हर समय चालू रहें जब तक कि आप उनमें से किसी एक को बंद नहीं करते (उदाहरण के लिए, मास्टर बेडरूम में)। श्रृंखला आउटलेट जुड़े हुए हैं ताकि वे एक साथ चालू या बंद हो जाएं; उदाहरण के लिए, यदि आपके पास ऊपर और नीचे तीन स्विच द्वारा नियंत्रित प्रकाश है, तो यह श्रृंखला-वायर्ड होगा।

Step 6: Fix The Cables And Devices

प्रत्येक सर्किट का परीक्षण करने के बाद, अपने केबलों को ठीक करें और स्विच, लाइट, पावर पॉइंट और पावर बोर्ड जैसे किसी भी उपकरण को संलग्न करें। यदि आपने एक रिंग मेन सर्किट स्थापित किया है जिसमें आपकी सभी लाइट फिटिंग एक स्विचबोर्ड से जुड़ी हैं तो आपको कोई और स्विच स्थापित करने की आवश्यकता नहीं है।

आपका एकमात्र कार्य विद्युत केबल को अपनी दीवारों के साथ और प्रत्येक कमरे में विद्युत उपकरण चलाना है। यह या तो लचीली केबल या धातु ट्रंकिंग का उपयोग करके किया जा सकता है। अधिकांश घरों में स्विचबोर्ड से लचीले तार होंगे जिनमें धातु के ट्रंकिंग का उपयोग कमरों के बीच या फर्श के बीच केबल को जोड़ने के लिए किया जाता है।

Step 7: Check Whether The Wiring Is Working Or Not

बधाई हो! आपने अभी-अभी अपना घर का वायरिंग किया है। यह जश्न मनाने का समय है, क्योंकि आप (जाहिर है) कमाल हैं। इससे पहले कि आप कवर के साथ वह सब बढ़िया खत्म कर लें, हालांकि, कुछ चीजें हैं जो आपको करने की ज़रूरत है।

सुनिश्चित करें कि हर एक तार बिजली के टेप या हीट-सिकुड़ ट्यूबिंग में ठीक से कवर किया गया है, और सुनिश्चित करें कि दीवार में अपने छेद से बाहर आने पर (या जहां कहीं भी यह जा सकता है) सब कुछ अच्छा और साफ दिखता है।

यह कार्यात्मक और सौंदर्य दोनों कारणों से है – हम किसी भी अन्य कंडक्टर या धातु जुड़नार को छूते हुए कुछ भी नहीं चाहते हैं, लेकिन हम यह भी नहीं चाहते हैं कि हमारे नए होम थिएटर के तार ऐसे दिखें जैसे वे कहीं किसी पुल के नीचे हों।

अगर सब कुछ बढ़िया है तो आपकी वायरिंग कम्पलीट हो गयी है अब आप अपने मेन पावर सोर्स से सप्लाई देकर चेक कर सकते हैं की सब कुछ सही से काम कर रहा है या नहीं।

इसे भी पढ़ें :- https://resultbus.com/casing-capping-wiring-complete-process-in-hindi/

हाउस वायरिंग कितने प्रकार के होते हैं?

वायरिंग मुख्य रूप से चार प्रकार की होती है।
1. क्लीट वायरिंग: टेम्पररी होती है और बहुत ही सस्ती होती है।
2. बैटन वायरिंग: पुरानी टेक्नोलॉजी वाली वायरिंग लकड़ी की हेल्प से दिवार पर वायर को फिक्स कर देते हैं।
3. कंडयुट वायरिंग: इस वायरिंग तकनीक में PVC या स्टील की पाइप में वायर को डालकर दिवार में फिक्स कर देते हैं। साधारण भाषा में इसे इंटरनल वायरिंग भी कहते हैं।
4. केसिंग एंड कैपिंग वायरिंग: यह आज के समय में सबसे ज्याद उपयोग की जाने वाली वायरिंग है। केसिंग को कील की हेल्प से दिवार में फिक्स कर देते हैं और फिर वायर को इनके बिच से गुजार के कैपिंग की हेल्प से बंद कर दिया जाता है इसे एक्सटर्नल वायरिंग भी कहा जाता हैं।

घर की वायरिंग के लिए सबसे अच्छा वायर कौन सा होता है ?

मार्किट में बहुत से तार मिल जाएंगे जिन्हे कम्पनिया एयर दुकानदार अच्छा बताने की कोशिश करते हैं। लेकिन वायरिंग के समय अच्छे तार का चयन करना बहुत आवश्यक है इसलिए अच्छी क्वालिटी के तांबे के तार का उपयोग करें।एल्युमीनियम के तार वायरिंग के लिए ज्यादा टिकाऊ नहीं होते हैं।

वायर और केबल में क्या अंतर है?

वायर में केवल एक प्लास्टिक की लेयर होती है क्युकी इनका उपयोग मुख्या रूप से घर के अंदर किया जाता है। लेकिन केबल में डबल वायरिंग होती है ऐसा इसलिए होता है क्युकी मुख्य रूप से केबल का उपयोग घर के बाहर मेन सप्लाई को लेन में किया जाता है जिससे इन्हे मौसम की मार ठंढी, गर्मी, बरसात आदि का सामना करना पड़ता है।
दूसए शब्दो में कहें तो वायर के ऊपर डबल कोटिंग करके प्राप्त वायर को केबल कहते हैं।

घर की वायरिंग में क्या क्या सामान लगता है?

घर की वायरिंग में लगने वाले मुख्य सामान-
1.वायर
2.स्विच
3.प्लग
4. PVC पाइप
5.बोर्ड
6.होल्डर
7.MCV और पावर कटआउट

बिजली के तारों का रंग अलग-अलग क्यों होता है

बिजली के तारों का रंग अलग- अलग होने से हमें पहचानने में आसानी हो जाती है। हमारे भारत में मुख्य रूप से तीन रंग के तार उपयोग में लाये जाते हैं।
1. लाल वायर: इस वायर का उपयोग फेज कनेक्शन के लिए किया जाता है।
2. हरा वायर: इस वायर का प्रयोग अर्थिंग के लिए किया जाता है।
3. ब्लैक वायर: इस वायर का प्रयोग उदासींन (Nutural) के लिए किया जाता है।

Sharing Is Caring:

Hi There! this is Er. Kuldeep a professional blogger, having 5 years of experience in blogging. I love to gather information and write about them. The aim of this blog is to keep you posted with every important update. So, keep visiting and keep learning.

Leave a Comment